Author: Mukesh Kumar Singh

ये ख़बर/नीति देश तोड़ने वाली है, इसीलिए नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त है!

केजरीवाल सरकार ने 1 अक्टूबर 2018 से उत्तर पूर्वी दिल्ली के गुरु तेग बहादुर अस्पताल में दिल्लीवासियों के लिए 80 फ़ीसदी आरक्षण की नीति लागू कर दी! पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू हुआ ये प्रयोग अलोकतांत्रिक और अक्षम्य है। ये नीति न सिर्फ़ असंवैधानिक है, बल्कि देश की एकता और अखंडता पर किसी निर्वाचित सरकार की ओर से हुआ बेहद शर्मनाक हमला है! ये इतना गम्भीर मसला है कि सुप्रीम कोर्ट को फ़ौरन इसका स्वतः संज्ञान लेकर इसे ख़ारिज़ करना चाहिए। केजरीवाल की इस बेहद अफ़सोसनाक, अमानवीय, मूर्खतापूर्ण, ख़तरनाक और बचकानी नीति को लेकर आम आदमी पार्टी के लोग...

Read More

राफ़ेल पर सफ़ाई देकर धनोया ने वायुसेना की गरिमा गिरायी!

वायु सेना प्रमुख एयर चीफ़ मार्शल बीएस धनोया ने राफ़ेल सौदे को लेकर ख़ुद अपने पद की गरिमा का मज़ाक उड़ाया है! मोदी सरकार और रक्षामंत्री निर्मला सीतारमन ने धनोया से पहले यही काम वायुसेना के उपप्रमुख एयर मार्शल रघुनाथ नाम्बियार से करवाया था! सवाल उठता है कि इन नौकरशाहों से राफ़ेल सौदे को लेकर सर्टिफ़िकेट किसने माँगा है? किसने कहा है कि राफ़ेल अच्छा विमान नहीं है? किसे ये सर्टिफ़िकेट चाहिए कि राफ़ेल सौदा एक ‘बोल्ड डील’ था या नहीं? कौन कहता है कि सौदा सस्ता है और कौन इसे सबसे बड़ा घोटाला बता रहा है? कौन कहता...

Read More

2019 में भी मोदी जीते तो 36 नहीं बल्कि 72 राफ़ेल मिलेंगे और वो भी बिल्कुल मुफ़्त!

क्या आप जानते हैं कि फ़्राँस से अन्ततः भारत को 36 राफ़ेल विमान बिल्कुल मुफ़्त मिलने वाले हैं! जानकारों का तो यहाँ तक कहना है कि नरेन्द्र मोदी सरकार की राष्ट्रभक्ति और ईमानदारी को देखते हुए मुमकिन है कि भारतीय वायु सेना को आख़िरकार 36 की जगह 72 राफ़ेल हासिल हो जाएँ! और, वो भी बिल्कुल मुफ़्त! जी हाँ, ‘एक के साथ एक फ़्री’ के रूप में! मुमकिन है कि आपको ये ख़बर फ़ेक लगे! लेकिन ये फ़ेक नहीं हो सकती क्योंकि राफ़ेल सौदे के बारे में मोदी सरकार के मंत्री जिस तरह से आये-दिन सनसनीखेज़ ख़ुलासे कर रहे...

Read More

विवेक की हत्या के लिए अफ़सरों और नेताओं पर भी मुक़दमा क्यों नहीं चलना चाहिए?

लखनऊ में विवेक तिवारी की हत्या की ख़बर जब से मिली, तभी से दिमाग़ में कई सवाल दिमाग़ में कौंध रहे हैं! मसलन, क्या इस हत्याकांड के लिए सिर्फ़ वो दो सिपाही ही ज़िम्मेदार हैं जिन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस बर्ख़ास्त और गिरफ़्तार कर चुकी है? क्या अख़लाक़ की हत्या के लिए भी सिर्फ़ दादरी के बिसाहड़ा गाँव की अज्ञात लेकिन उपद्रवी भीड़ ही ज़िम्मेदार थी? क्या रोहित वेमुला ही अपनी ‘हत्या’ के लिए क़सूरवार था? क्या पहलू ख़ान और रक़बर ख़ान भी अपनी मौत के लिए ख़ुद ही ज़िम्मेदार थे? क्या नोटबन्दी के नाकाम साबित होने के लिए भी...

Read More

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने सुलझाया कम और उलझाया ज़्यादा!

अयोध्या विवाद के सिलसिले में 27 सितम्बर 2018 को आये सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले में बस एक ही बात काम की है कि ‘हरेक मामला अपने आप में अलग होता है!’ क़ानूनी तौर पर भी पूरे फ़ैसले में बस, यही एक लाइन की बात पते की है। बाक़ी सारी बातें फ़िज़ूल हैं। इस ‘एक लाइन’ का भी बस, एक ही व्यावहारिक मतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने ठान लिया है कि फ़िलहाल, वो अयोध्या विवाद पर जल्द से जल्द अपना फ़ैसला सुनाना चाहता है। वो पहले ही कह चुका है कि उसकी नज़र में सारा मामला ‘ज़मीन के मालिकाना...

Read More

Facebook Updates

[custom-facebook-feed]